Stepper motor in Hindi, स्टेपर मोटर कार्य सिधांत, प्रकार, उपयोग, फायदे

0
78

आज के Stepper motor in hindi इस आर्टिकल में स्टेपर मोटर के बारेमे जानने वाले है | इसका कार्यसिधान्त इस मोटर के प्रकार इसके उपयोग साथी साथ फायदे नुकसान के बारेमे भी जानेंगे | इस मोटर का इस्तेमाल कुछ खास तरह की जगह पर किया जाता है | इन मोटर को इस तरह से डिजाईन और बनाया जाता है ताकि इनका इस्तेमाल ज्यादा रे फीड बैक कण्ट्रोल सिस्टम में इस्तेमाल किया जा सके |

stepper motor in hindi
Stepper motor in hindi

Stepper motor in Hindi (स्टेपर मोटर क्या है?):-

इन मोटर को स्टेपिंग मोटर या फिर स्टेप मोटर भी कहा जाता है | इनको स्टेपर मोटर इसलिए कहा जाता है क्यू की इसके मोटर के घूमने का कोण तय होता है याने ने फिक्स एंगुलर स्टेप पर ही घूमता है |

हाल ही के समय में स्टेपर मोटर की मांग बोहोत बढ़ गयी है क्यू की इनका इस्तेमाल कंप्यूटर इंडस्ट्री में बोहोत ज्यादा किया जाता है | इसकी बोहोत खास बात यह है की इनको नियंत्रित करने के लिए कंप्यूटर, मायक्रो प्रोसेसर या फिर प्रोगारामेबल कंट्रोलर का इस्तेमाल किया जा सकता है |

इंडस्ट्री में बोहोत सारी मोटर का इस्तेमाल किया जाता है ताकि इलेक्ट्रिकल एनर्जी को मैकेनिकल एनर्जी में बदला जा सके लेकिन उन मोटर को बोहोत बारीकी से घूमने के लिए नहीं बनाया जाता है ताकि इसलिए उनका इस्तेमाल फीड बैक सिस्टम के लिए नहीं किया जा सकता है |

स्टेपर मोटर की मदद से बोहोत अछि तरह से बोहोत बारीक़ तरह से गति को नियंत्रित किया जा सकता है |

इन stepper motor में टार्क 1μN-m से 40N-m तक होता है | और इनके पॉवर आउटपुट की बात की जाये तो 1 W से 2500 W तक होती है |

इस मोटर में सिर्फ एक ही घूमने वाला हिस्सा होता है जो की रोटर होता है और इसमे न तो वाइंडिंग, कम्यूटेटर या फिर ब्रश नहीं होते है इसकी वजह से इस मोटर को इस्तेमाल करना आसान होता है |

Also read this:- substation in hindi

Stepper motor working principle (स्टेपर मोटर का कार्य सिद्धांत ):-

स्टेपर मोटर इलेक्ट्रोमैग्नेटिज्म पर आधारित है | इसके रोटर की बात की जाये तो वह सॉफ्ट आयरन या फिर मैग्नेटिक रोटर होता है |

जब स्टेटर वाइंडिंग को इलेक्ट्रिकल सप्लाई दी जाती है तब सप्लाई की वजह से वाइंडिंग के चारो और मैग्नेटिक फील्ड तैयार हो जाती है वह मैग्नेटिक फील्ड रोटर के साथ इंटरैक्ट होती है और उसकी वजह से रोटर भी घूमने लगता है |

Types of stepper motor (स्टेपर मोटर के प्रकार):-

  1. Variable Reluctance Stepper Motor (वेरिएबल रिलाक्टांस स्टेपर मोटर)
  2. Permanent magnet stepper motor (पर्मनंट मैगनेट स्टेपर मोटर)
  3. Hybrid stepper motor (हाइब्रिड स्टेपर मोटर)

1) Variable Reluctance Stepper Motor (वेरिएबल रिलाक्टांस स्टेपर मोटर):-

इसमे वौण्ड स्टेटर पोल्स होते है और रोटर पोल फेरो मैग्नेटिक मटेरियल का इस्तेमाल किया जाता है | यह सिंगल स्टैक टाइप ता फिर मल्टी स्टैक होते है |

इसे इसलिए वेरीएबल रिलुक्टांस मोटर इसलिए कहा जाता है क्यू की मैग्नेटिक सर्किट का रिलक्टांस जो की स्टेटर और रोटर टीथ पे होता है वो रोटर के एंगुलर पोजीशन के हिसाब से बदलता है |

2) Permanent magnet stepper motor (पर्मनंट मैग्नेटिक स्टेपर मोटर):-

इसमे भी वौण्ड स्टेटर पोल होते है लेकिन इसमे रोटर पोल परमानेंटली मग्नेटिस होते है |इसमे सिलेंडरिकल रोटर होता है, इसके घुमाने की दिशा स्टेटर करंट के ऊपर निर्भर होती है | इसकी बनावट सिंगल स्टैक वेरिएबल रिलुक्टंस मोटर की तरह ही होती है, लेकिन इसमे रोटर पर्मनेंट मैगनेटसे बना होता है |

इस मोटर के लिए बाहरी exciting current की जरुरत नहीं होती है | एस मोटर में ज्यादा inertia होता है | इसमे ज्यादा टार्क उत्पन्न होता है |

3) Hybrid stepper motor (हायब्रिड स्टेपर मोटर):-

इसमे वौण्डऔर स्टेटर पोल होते है परमानेंटली मग्नेटिस रोटर पोल होते है | अगर ये बोहोत अछे से काम करे एस तरह से बनाना हो तब इसका स्टेप अन्गल 1.8° से 2.5° की जरुरत होती है |

हाइब्रिड स्टेपर मोटर में वेरिएबल और पर्मनंट स्टेपर मोटर के गुणों को एक साथ इस्तेमाल किया जाता है | इसकी बनावट वेरिएबल रीलुक्टांस मोटर की तरह ही होती है |

Advantages of stepper motor in hindi(स्टेपर मोटर के फायदे ):-

  1. यह मोटर बहुत साधनों में इस्तेमाल के लिए अनुकूल है |
  2. स्टेपर मोटर का टार्क ज्यादा होता है |
  3. Servo motor के मुकाबले इसकी कीमत कम होती है |
  4. इन मोटर का इस्तेमाल करना सुरक्षित होता है अगर कही पर breakdown होता है तब |
  5. इसके कार्य करने का समय ज्यादा होता है याने की longer life.
  6. इन मोटर को ओवर लोड पर भी चलाया जा सकता है |

Disadvantages of stepper motor in hindi(स्टेपर मोटर से नुकसान):-

  1. इस मोटर की एफिशिएंसी (क्षमता) कम होती है |
  2. जैसे ही इस मोटर की गति बढती है वैसे ही इसके टार्क में गिरावट आ जाती है |
  3. इस मोटर की acuracy इतनी अच्छी नहीं होती है |
  4. एन मोटर से ज्यादा आवाज आती है |
  5. ज्यादा गति पर इन मोटर को कण्ट्रोल करना मुश्किल होता है |

Appliction of stepper motor (स्टेपर मोटर के इस्तेमाल):-

  1. CNC machine में
  2. प्रिंटर
  3. Laser और optics
  4. 3D प्रिंटर में
  5. इंडस्ट्रियल मशीन में
  6. इनका इस्तेमाल पेपर फीड मोटर याने टाइप राइटर में भी किया जाता है |
  7. मशीन टूल में इस्तेमाल किया जाता है |
  8. Robotics, antena, खिलोनो में भी इस्तेमाल किये जाते है |
Previous articleElectrical MCQ type questions
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here