Geothermal energy in Hindi | भूतापीय ऊर्जा परिभाषा, प्रकार, उपयोग, फायदे

0
2119

Geothermal energy in Hindi आज अगर देखे तो इलेक्ट्रिसिटी का इस्तेमाल हर जगह पर किया जाता है ताकि काम आसानी से और जल्दी हो जाये, बिजली के इस्तेमाल से काम की गुणवत्ता भी बढ़ जाती है | इसलिए ज्यादा से जादा उर्जा किस तरह हासिल की जा सकती है इसपर काम चल रहा है | आज हम इस लेख में एक उर्जा श्रोत के बारेमे जानने वाले है जो है भूतापीय उर्जा |

Geothermal-energy-hindi
Geothermal-energy-Hindi

Geothermal energy in Hindi | भूतापीय ऊर्जा क्या है?

Geothermal energy definition in Hindi:-

परिभाषा:- भूतापीय ऊर्जा एक thermal energy का ही रूप है और यह उर्जा का अक्षय श्रोत है और इसकी उर्जा डेंसिटी भी ज्यादा है | यह एक अक्षय श्रोत है क्यू की जमीन के अन्दर से लगातार उर्जा बाहर निकती रहती है ताकि पृथ्वी के अन्दर का तापमान कम रह सके |

जिस तरह Wind energy और solar energy लगातार मिलती रहती है उसी तरह से भूतापीय उर्जा भी लगातार मिलती रहती है |

Geothermal energy गर्मी (उष्ण ऊर्जा) के रूप में मिलती है जिसका इस्तेमाल करके पावर को उत्पन्न करने के लिए और दूसरो चीजो के लिए किया जा सकता है |

भूतापीय उर्जा हमें कुछ रूप मे मिलती है जैसे की :-

  • गर्म पानी के झरने (Hot water springs)
  • गीजर और फ्यूमरोल (Geyser and fumaroles) :- इसमे से गरम पानी और भाप निकलती है |
  • ज्वालामुखी का विस्फोट (Volcanic eruptions) :- इस प्रकार में गरम लावा, गरम पत्थर और गरम उबलता कीचड़ निकलता है |

जैसे की हमें पता है की धरती के अन्दर बोहोत ज्यादा थर्मल उर्जा है लेकिन उसमे से बोहोत कम उर्जा का ही इस्तेमाल किया जा सकता है क्यू की जहा पर प्राकृतिक रूप से यह श्रोत है वही पर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है | ऐसी बोहोत कम जगह है जहा इसतरह के power plant का निर्माण किया जा सके |

जीस जगह से यह उर्जा मिलती है उस जगह को geothermal fields कहा जाता है |

साधारण तौर पर देखे तो geothermal energy जमीं के 80km निचे होती है, लेकिन कई जगहों पर यह दुरी 0.3km से 3km हो जाती है | इस उर्जा को बाहर निकलने के लिए जमींन के अन्दर ड्रिल किया जाता है उसकी मदद से पानी या भाप को बाहर निकाला जाता है |

Types of geothermal resources (भूतापीय संसाधनों के प्रकार):-

  1. Hydrothermal (हाइड्रो थर्मल)
  2. Magma (मेग्मा)
  3. Hot dry rocks (हॉट ड्राई रॉक्स)
  4. Geo-pressurised (जिओ-प्रेसराइज)

Origin of geothermal energy(भूतापीय उर्जा का मूल):-

लाखो सालो पहले धरती का निर्माण हो रहा था तब धरती के अन्दर गरम लावा, गैसेस और भाप थी उसकी बाहरी परत धीरे धीरे ठंडी होती गयी और और एक पतली सतह बन गयी लेकिन धरती के अन्दर का तापमान ज्यादा कम नहीं हुआ याने की उसका तापमान करीब 4000℃ है |

धरती के थोड़े अन्दर पिघला हुआ द्रव्यमान है उसे ही magma कहा जाता है, और यह अभी भी ठंडा हो रहा है | प्रथ्वी में की तरह से झटके या भूकंप की वजह से ये magma सतह तक पहुच जाता है उसकी की वजह से वोल्कानो, गरम पानी के पव्वारे उत्पन्न होते है |

Geothermal field किस तरह की होती है उसका चित्र हम निचे देख सकते है |

Geothermal energy in Hindi
Geothermal energy in Hindi

ऊपर दिखाए चित्र में हम magma, वेल, fissure, स्टीम porous rocks एन सभी चीजो को देख सकते है |

Advantages of geothermal energy (भूतापीय ऊर्जा के लाभ):-

  1. यह उर्जा का reliable याने विश्वसनीय श्रोत है जो की पुरे साल उर्जा देता रहता है |
  2. मौसम का इसपर असर नहीं होता है |
  3. थर्मल स्टोरेज फैसिलिटी की जरुरत नहीं होती है |
  4. इसमे सॉलिड पोलूटन्ट नहीं होते है |
  5. इसका कैपिटल कॉस्ट और जनरेशन कॉस्ट बोहोत कम होता है थर्मल पावर प्लांट के मुकाबले |
  6. बोहोत कम जगह ककी जरुरत पड़ती है |
  7. इसे चलने के लिए किसी तरह के इंधन की जरुरत नहीं होती है |

Disadvantages of geothermal energy (भूतापीय ऊर्जा के नुकसान)

  1. नमक की वजह से power plant के पुर्जे ख़राब हो सकते है |
  2. जिस जगह पर यह field है उसी जगह पर पावर प्लांट को बनाया जा सकता है |
  3. Geothermal fluids के साथ कुछ H2S, CO2, NH3 जैसी गैसेस भी निकती है |
  4. एन पावर प्लांट का जीवन काल कम होता है दुसरे पावर प्लांट के मुकाबले |
  5. इनकी वजह से ध्वनी प्रदुषण होता है |
  6. भूकंप होने की सम्भावनाये बढ़ जाती है |

Uses of geothermal energy (भूतापीय उर्जा के उपयोग):-

  1. जगह को गरम या ठंडा करने के लिए |
  2. इलेक्ट्रिकल पावर को उत्पन्न करने के लिए |
  3. इंडस्ट्रियल प्रोसेस हीट के लिए |
  4. Greenhouse से पौधों को उगने के लिए |
  5. फसलों को dry करने के लिए |
  6. पानी को गरम करने के लिए |
  7. इनका इस्तेमाल स्पा की तरह भी किया जाता है |

FAQ related to geothermal energy in hindi (भूतापीय उर्जा से जुड़े प्रश्न उत्तर):-

  1. Geothermal energy definition in Hindi (भूतापीय उर्जा की परिभाषा क्या है ?)

    भूतापीय ऊर्जा एक thermal energy का ही रूप है और यह उर्जा का अक्षय श्रोत है और इसकी उर्जा डेंसिटी भी ज्यादा है | यह एक अक्षय श्रोत है क्यू की जमीन के अन्दर से लगातार उर्जा बाहर निकती रहती है ताकि पृथ्वी के अन्दर का तापमान कम रह सके |

  2. What are the Advantages of geothermal energy (भूतापीय ऊर्जा के कोनसे लाभ है ?):-

    1.यह उर्जा का reliable याने विश्वसनीय श्रोत है जो की पुरे साल उर्जा देता रहता है |
    2.मौसम का इसपर असर नहीं होता है |
    3.थर्मल स्टोरेज फैसिलिटी की जरुरत नहीं होती है |
    4.इसमे सॉलिड पोलूटन्ट नहीं होते है |
    5.इसका कैपिटल कॉस्ट और जनरेशन कॉस्ट बोहोत कम होता है थर्मल पावर प्लांट के मुकाबले |
    6.बोहोत कम जगह ककी जरुरत पड़ती है |
    7.इसे चलने के लिए किसी तरह के इंधन की जरुरत नहीं होती है |

  3. What are the disadvantages of geothermal energy (भूतापीय उर्जा के नुकसान होनसे है?)

    1.नमक की वजह से power plant के पुर्जे ख़राब हो सकते है |
    2.जिस जगह पर यह field है उसी जगह पर पावर प्लांट को बनाया जा सकता है |
    3.Geothermal fluids के साथ कुछ H2S, CO2, NH3 जैसी गैसेस भी निकती है |
    4.एन पावर प्लांट का जीवन काल कम होता है दुसरे पावर प्लांट के मुकाबले |
    5.इनकी वजह से ध्वनी प्रदुषण होता है |
    6.भूकंप होने की सम्भावनाये बढ़ जाती है |

  4. Geothermal energy in india (भुज तापीय उर्जा कहा पाई जाती है india में )

    बिहार में राजगीर, चंद्रपुर, हिमाचल प्रदेश में मणिकरण, झारखण्ड में सूरज कुंड, हरियाणा के सोहना में |

  5. What are the examples of geothermal energy in hindi(भूतापीय उर्जा के उदहारण )

    Hot dry rocks (हॉट ड्राई रॉक्स)
    Geo-pressurised (जिओ-प्रेसराइज)
    Magma (मेग्मा)
    hot springs
    geothermal power plants
    Geothermal geysers

  6. कामरूप भूतापीय उर्जा सयंत्र कहा है?

    कामरूप भूतापीय उर्जा सयंत्र चंद्रपुर में है |

  7. छत्तीसगढ के कोनसे जिले में भूतापीय उर्जा है ?

    बलराम पुर के तातापानी में

geothermal energy in Hindi

यह भी पढ़े:-

tTransformer kya hai | Transformer in hindi

transducer in Hindi

LVDT in Hindi | Linear variable differential transducer

Previous articleबायोगैस क्या है? बायोगैस परिभाषा, बनावट, कार्यप्रणाली, फायदे, नुकसान
Next articleTidal energy in Hindi | ज्वारीय ऊर्जा क्या है?,कार्य सिद्धांत, फायदे, नुकसान,
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here