Biofuel in Hindi | जैव ईंधन क्या है?,परिभाषा, प्रकार, उपयोग, उदहारण

0
985

तो दोस्तों आज के Biofuel in Hindi इस आर्टिकल में हम जैव ईंधन क्या है इसके बारेमे जानने वाले है | जैव ईंधन का मतलब जो भी उर्जा biomass से मिलती है याने किसी पेड़ पौधे सेशेवाल, या जानवरों को कचरा इनसे जो उर्जा मिलती है उसे biofuel कहा जाता है | इस लेख में हम परिभाषा, उदहारण, उपयोग, प्रकार के बारेमे सखोल में जानकारी लेंगे |

Biofuel in Hindi
Biofuel in Hindi

Biofuel in Hindi | जैव ईंधन क्या है?

परिभाषा:- किसी भी प्राकृतिक संसाधन जैसे की पौधे से मिले हुए ईंधन जो कि तरल, ठोस या गैस की स्थिति में हो सकता है उसे जैव ईंधन कहा जाता है |

Definition:- The fuel botained yy using natural resources such as plant in he form of gas, liquid or solid is called as biofuel.

बायोमास उर्जा की बात करे तो यह कार्बन आधारित आर्गेनिक कंपाउंड है जैसे की किसी कंपाउंड को हवा की मदद से जला कर उससे उससे उष्म उर्जा को प्राप्त किया जाये |

Biomass को सीधे तौर पर ठोस स्थिति में ही जलाकर उससे उर्जा उत्पन्न की जा सकती है या फिर उसे एक अच्छे दुसरे रूप में बदला जा सकता है जैसे की तरल और गैस ताकि उसका इस्तेमाल अच्छे से किया जा सके, ऐसा करने से energy density भी बढ़ जाती है |

इस ईंधन का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि पर्यावरण को कम नुकसान हो और पैसो की भी थोड़ी बचत हो क्यू की इसके इस्तेमाल से जीवाश्म ईंधन की खपत कम हो जाएगी |

Types of Biofuel in hindi (जैव ईंधन के प्रकार):-

  1. Solid biofuel (ठोस जैव ईंधन)
  2. Liquid biofuel (तरल जैव ईंधन)
  3. Biodiesel (जैवडीजल)
  4. Biogas (बायोगैस)

1) Solid biofuel (ठोस जैव ईंधन):-

इस जैव ईंधन में लकड़ी, लकड़ी का बुरादा, लकड़ी का कोयला, कटी घास, घरेलू कचरा, गोबर यह सब solid biofuel के उदहारण है | इनका इस्तेमाल करके सीधे तौर पर गर्मी की उत्पन्न किया जा सकता है |

या फिर इन इंधन का इस्तेमाल करके इंन्हे जलाकर उसके गर्मिसे पानी को भाप में बदला जा सकता है और इस भाप इस्तेमाल दुसरे चीजो के लिए किया जा सकता है | साथी साथ स्टोव या boiler, furnace में इस्तेमाल किया जाता है |

अगर ठोस बायोमास ईंधन इस्तेमाल के लिए सुविधा जनक रूप में हो उसका इस्तेमाल वैसे ही किया जाता है | इसका इस्तेमाल करने के लिए उस solid biofuel को दो से तिन इंच के आकार में काटा जाता है और उसके छोटे छोटे तुकडे बयाने जाते है |

छोटे तुकडे करने से इनको एक जगह से दूसरी जगह पर ले जाना और जलाना आसान हो जाता है |

इसका एक नुकसान है की इस तरह से इस्तेमाल करे तो वो इतना प्रभावी नहीं होता है | इसमे सिर्फ 5% से 10% उष्ण उर्जा ही मिल पाती है बाकि की उर्जा विकिरण याने की radiation और दूससे लोस्सेस से बेकार चली जाती है |

2) Liquid biofuel ( तरल जैव ईंधन):-

इस तरल जैव इंधन की energy density ज्यादा होने के कारन इसका इस्तेमाल परिवहन ईंधन के लिए बोहोत ज्यादा किया जाता है | I.C engine में बोहोत साफ ईंधन कि जरुरत होती है ताकि इंजन साफ और इसमे से कम से कम प्रदुषण हो |

तरल स्थिति में और गैस स्थिति में के ईंधन को I.C engine में जलाना आसान होता है |

इथेनॉल (Ethenol-C2H5OH) और मेथनॉल (Methanol-CH3OH) का इस्तेमाल पेट्रोल इंजन में इस्तेमाल सीधे तौर पर या फिर उसमे कुछ बदलाव करके इस्तेमाल किया जाता है |

ऐसा दावा किया जा रहा है की Biobutanol (बायोबुटानोल) को बिना किसी बदलाव से gasoline याने पेट्रोल के साथ बदला जा सकता है |

A) Ethanol (इथेनॉल):-

इथेनॉल की energy density ज्यादा होती है यह लगभग 27000 kj/kg होती है और इसका बोइलिंग पॉइंट 78 ℃ होता है |

इथेनॉल का इसका इस्तेमाल पेट्रोल इंजन में पेट्रोल की जगह किया जा सकता है इसको पेट्रोल में मिलकर इस्तेमाल किया जा सकता है | अभी जो नयी गाड़िया आ रही है उसमे बिना किसी बदलाव के पेट्रोल के साथ 15% इथेनॉल को इस्तेमाल किया जा सकता है |

Ethenol की एनर्जी डेंसिटी पेट्रोल से लगभग 45% कम होती है |

इसे इस्तेमाल करने फायदा ये है की इसकी octane rating ज्यादा होती है, इसकी वजह से इसका कम्प्रेशन रेश्यो बढ़ जाता है और इसकी थर्मल एफिशिएंसी भी अच्छी हो जाती है | और इसके इंजन का उत्सर्जन भी कम हो जाता है |

अल्कोहल फ्यूल जो कि सुगर कंपोनेंट्स से बनायीं जाती है इसके लिए गेहूं, मक्का, चुकंदर, गन्ने साथी साथ ख़राब फलो कभी इस्तेमाल किया जाता है |

B) Methanol (मेथनॉल):-

मेथनॉल को बनाने के लिए munciple waste का इस्तेमाल किया जाता है | पहले तो कचरे को छाना जाता है उसके बाद उसको चुम्बक के निचे से गुजारा जाता है ताकि उसमे से धातु के पदार्थ निकल जाये |

उसके बाद छाने हुए कचरे को O2 गैस से gasified किया जाता है, इसमे से जो संश्लेषण गैस निकलती है उसमे से oil, H2S, CO2 निकल जाते है |

उसके बाद यह गैस CO-शिफ्ट में जाती है वहा पर उसे अच्छे से CO2, CO, H2, रेश्यो मिलता है |इस प्रक्रिया में अतिरिक्त CO2 भी उत्पन्न हो जाती है उसको अमीन स्क्रबिंग प्रक्रिया से निकाल दिया जाता है |

उसके बाद मेथनॉल संश्लेषण मिल जाता है जिसमे Cu/Zn/Cr catalyst होते है |

3) Biodiesel (जैवडीजल) :-

जैव डीजल कोबनाने के लिए वनस्पति तेल, जानवरों की चर्बी, सोया, रेपसीड, jatropha,mustard याने राइ, sunflower, palm oil और algae का इस्तेमाल किया जाता है |

इसके शुद्ध स्थिति में इसका इस्तेमाल गाडियों में किया जाता है लेकिन ज्यादा टार इसका इस्तेमाल डीजल में additives की तरह किया जाता है ताकि कुछ चीजो को संतुलित किया जा सके |

डीजल इंजन में 15% बायोडीजल और बाकि का शुद्ध डीजल का इस्तेमाल किया जा सकता है |

कुछ देशो में जैसे की जर्मनी में 100% बायोडीजल का इस्तेमाल इंजन में करने की अनुमति है | इसका एक नुकसान ये भी है की ठन्डे वातावरण में यां जैव डीजल चिपचिपा हो जाता है उसकी वजह से ठन्डे वातावरण में हीटर का इस्तेमाल पड़ता है |

4) Biogas (बायोगैस):-

बायोगैस उत्पन्न करने के लिए agricultural waste और क्लुरी का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन कई जगहों पर इसका इस्तेमाल करना सुविधाजनक नहीं है इसके लिए खर्चा ज्यादा होता है |

इसमे मीथेन और CO2 मुख्य संघटक होते है | organic waste के anaerobic decomposition प्रक्रिया की मदद से biogass का निर्माण होता है | इसमे 55 से 65% मीथेन और 30 से 40 % कार्बन डाइऑक्साइड और बचे हुए हिस्से में H2S, H2, N2 गैसेस होती है |

बायोगैस को उत्पन्न करने के लिए मुख्य तौर पर पसल के बचे हिस्से, गिला गोबर, सब्जियों का बचा हुआ कचरा, algae, पोल्ट्री का कचरा, इंसानों का मलमूत्र, जानवरों का कचरा जो की आसानी से डिग्रेडेबल या अपघटक हो सके |

Advantages of Biofuel in hindi (जैव ईंधन के फायदे):-

  1. जैव ईंधन कार्यक्षम, कुशल ईंधन है |
  2. इस ईंधन को आसानी से हासिल किया जा सकता है |
  3. यह उर्जा का अक्षय श्रोत है |
  4. इसके इस्तेमाल से ग्रीन हाउस गैसेस कम हो जाती है |
  5. Biofuels की वजह से कम प्रदुषण होता है |
  6. नए बनने वाले engine में इसका इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है |

Disadvantages of Biofuel in Hindi (जैव ईधन से नुकसान):-

  1. इन ईंधन को बनाने के लिए cost ज्यादा लगता है |
  2. यह पूरी तरह से clean energy नहीं है इससे थोडा बोहोत प्रदुषण होता है |
  3. इसमे बोहोत सारे पानी की जरुरत पडती है ताकि पौधों को उगाया जा सके और इस्तेमाल किया जा सके |
  4. आगे जाकर इस ईंधन का मूल्य बढ़ सकता है |
  5. इस ईंधन को बनाते समय हवा पे कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़ा जाता है उसकी वजह से ग्लोबल वार्मिंग की समाश्या हो सकती है |
  6. इसके लिए बोहोत सारे मजदूरों की जरुरत पड़ती है |

Application of Biofuel (जैव ईंधन के उपयोग):-

  1. परिवहन में |
  2. इलेक्ट्रिसिटी को उत्पन्न करने के लिए |
  3. Lubrication के लिए |
  4. पेंट को निकलने के लिए इस्तेमाल होने वाले साधनों में |
  5. हीटिंग याने गर्मी उत्पन्न करने के लिए |
  6. तेल को साफ करने के लिए |

FAQ related to Biofuel in hindi:-

जैवईंधन की परिभाषा क्या है?(biofuel definition in hindi?)

परिभाषा:- किसी भी प्राकृतिक संसाधन जैसे की पौधे से मिले हुए ईंधन जो कि तरल, ठोस या गैस की स्थिति में हो सकता है उसे जैव ईंधन कहा जाता है |

जैव ईंधन के उपयोग ( what is the application of biofuel):-

1.परिवहन में |
2.इलेक्ट्रिसिटी को उत्पन्न करने के लिए |
3.Lubrication के लिए |
4.पेंट को निकलने के लिए इस्तेमाल होने वाले साधनों में |
5.हीटिंग याने गर्मी उत्पन्न करने के लिए |
6.तेल को साफ करने के लिए |

जैव इंधन के प्रकार कितने है?( What are the types of biofuel?)

1.Ethanol (इथेनॉल)
2.Methanol (मेथनॉल)
3.Biodiesel (जैवडीजल)
4.Biogas (बायोगैस)
5.Butanol(ब्यूटेनॉल)
6.Wood(लकड़ी)

सबसे आम जैव ईंधन कोनसा है?(what is the most common type of biofuel)

Ethanol (इथेनॉल)

जैव ईंधन के फायदे कोनसे है?(What are the advantages of biofuel)

1.जैव ईंधन कार्यक्षम, कुशल ईंधन है |
2.इस ईंधन को आसानी से हासिल किया जा सकता है |
3.यह उर्जा का अक्षय श्रोत है |
4.इसके इस्तेमाल से ग्रीन हाउस गैसेस कम हो जाती है |
5.Biofuels की वजह से कम प्रदुषण होता है |
6.नए बनने वाले engine में इसका इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है |

यह भी पढ़े :-

power factor क्या है?

Previous articleBiomass egergy in Hindi | बायोमास उर्जा,परिभाषा,प्रकार,लाभ
Next articleबायोगैस क्या है? बायोगैस परिभाषा, बनावट, कार्यप्रणाली, फायदे, नुकसान
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here