Law of illumination in Hindi | स्पष्टीकरण, व्याख्या, प्रकार, सूत्र

0
312

प्रकाश या रोशनी को इल्लुमिनेसन कहा जाता है, आज के Law of Illumination in hindi इस आर्टिकल में हम इसके दो laws के बारेमे जममे वाले है। जो की Law of inverse squares और दूसरा Lambert’s cosine law इनका स्पष्टीकरण अच्छे से देखने वाले है।

Law of illumination in Hindi | इल्लुमिनशन  नियम क्या है ?

जब किसी सतह पर लाइट गिरती है तो इसी घटना को illumination कहा जाता है।
यह ये दर्हता हे की किसी सरफेस पर यूनिट एरिया में कितना लुमिनस फ्लक्स प्राप्त होता है |
इसे E से दर्शाया जाता है और lumens per square meter और lux से represent करते है |
Illumination in hindi इस आर्टिकल में आपको इल्लुमिनेशन के बारेमे पता चलेगा।
E = F / A  =  lumens / m ² और lux 
 
इल्लुमिनेशन के दो प्रकार है :-
  1. Law of inverse squares
  2. Lambert’s cosine law

1. Law of inverse squares ( लॉ ऑफ़ इनवर्स स्क्वायर ) :-

अगर कोई लाइट सोर्स लाइट को सभी दिशा में एकजैसे फैला रहा है और अगर उसे खोखला गोले के मध्य में रखे तब spahre के अंदर वाले हिस्से में लाइट एक जैसी गिरेगी, याने की हम यह कह सकते है की हर एक mm की जगह में एक जैसी लाइट गिरेगी।

अगर उसी खोखले sphere को और लम्बा बनाया जाये तब उतनी ही लाइट बड़े क्षेत्र में फ़ैल जाएगी।  जैसे ही अंतर बढ़ जायेगा वैसे ही लाइट कम हो जाएगी और अगर अंतर कम हो गया तो लाइट की intensity बढ़ जाएगी।

प्रकाश की तीव्रता  किसी स्थान पर पड़ने वाले इस प्रकार को Law of inverse square कहा जाता है।

Law of illumination in Hindi | law of inverse squares
Law of illumination in Hindi

अगर इसी सिद्धांत को cone या फिर pyramid जैसे आकार पर देखे जैसे की हम ऊपर दिखाए चित्र में देख सकते है। अगर  समझे की अगर pyramid आकार के भाग को लाइट सोर्स से कुछ दुरी पर दो जगह पर काटे तब एक हिस्से पर पड़ने वाली लाइट inversly proportinal होगी सोर्स से स्क्वायर डिस्टेंस तक। इस तरह से समजना थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन इसी रिलेशन को लॉ ऑफ़ इनवर्स स्क्वायर कहा जाता है।

अगर समझे की क्षेत्र A1 और क्षेत्र A2 r1 और r2  की दुरी पर है। और यहाँ पर लाइट सोर्स S की जगह पर है और इसकी लुमिनस इंटेंसिटी I है।

यहाँ पर लाइट सोर्स से एक कोण बन रहा है जो की ω है।
लुमिनस फ्लक्स रेडिएटेड पर स्टेरेडियन = I
कुल मिलाकए लुमिनस फ्लक्स रेडिएटेड = Iω लुमिनस
क्षेत्र A₁ पर होने वाले इल्लुमिनाशन = Iω /A₁  lumens /unit area
यहाँ पर क्षेत्र A₁ = ωr²₁

तब क्षेत्र A₁ पर होने वाले इल्लुमिनाशन E₁ = Iω / ωr²₁  =  I / r²₁ lumens per unit area

ऐसी तरह से

क्षेत्र A₂ पर होने वाले इल्लुमिनाशन E₂ = Iω / A₂ =  Iω / ωr²₂  = I / r²₂ lumens per unit area

इससे हम यह कह सकते है की सरफेस का इल्लुमिनेशन inversely proportinal होता है square डिस्टनेसे सरफेस और लाइट सोर्स के बिच में।

यह भी पढ़े :- Lightning arrester in hindi

2. Lambert’s Cosine Law ( लैम्बर्ट कोसाइन लॉ ) :-

अक्सर प्रकाशित सतह सामान्य नहीं होती है जिस दिशा में लाइट AC पर आ रही है, जैसा कि हम निचे दिखाए चित्र में देख सकते है। लेकिन यहाँ पर एक और कोण बन रहा है जो की AB है, यहाँ पर हमें ratio मिलता है जो की है।

AB / AC = 1 / cos θ

और इल्लुमिनेशन कम होता है जब ratio cos θ / 1  होता है |

Law of illumination in Hindi | Lamberts cosine law
Law of illumination in Hindi

तब इल्लुमिनेशन का एक्सप्रेशन कुछ इस तरह का बनेगा।

E = I cos θ / r²

Questions and Answers related to the Law of illumination ( लॉ ऑफ़ इल्लुमिनेशन से जुड़े प्रश्न उत्तर ):

Q. लॉ ऑफ़ इल्लुमिनेशन के कितने प्रकार है ( Types of law of illumination ?)
उत्तर:- 
  1. Law of Inverse Squares ( लॉ ऑफ़ इनवर्स स्क्वायर )
  2. Lambert’s Cosine law ( लम्बरट्स कोसाइन लॉ )
Q. इल्लुमिनेशन क्या है ?, ( What is illumination in hindi ?)
उत्तर :
जब किसी सतह पर लाइट गिरती है तो इसी घटना को illumination कहा जाता है।
यह ये दर्हता हे की किसी सरफेस पर यूनिट एरिया में कितना लुमिनस फ्लक्स प्राप्त होता है |
इसे E से दर्शाया जाता है और lumens per square meter और lux से represent करते है |
E = F / A  =  lumens / m ² और lux 
 
Q.  सटीक कार्य के लिए कितने इल्लुमिनेसन की जरुरत होती है ? ( Illumination level required for precision work )

उत्तर:- 500 lm/m²

Q.  प्रकाश तरंग का वेग क्या है ? ( What is the velocity of Lightwave )

उत्तर :- 3 ✕ 10¹⁰ cm/s

Q. MSCP का फुल फॉर्म क्या है ? ( What is fullform of MSCP ?)
उत्तर:- MSCP – Men Spherical Candle Power ( मेन स्पेरिकल कैंडल पावर )

यह भी पढ़े :- 

Lightning arrester in hindi | लाइटनिंग अरेस्टर क्या होता है? प्रकार, कार्यसिद्धांत, उपयोग

What is resistor in hindi | resistor क्या है? प्रकार, उपयोग, फायदे, नुकसान 

Pmmc instrument in hindi | Pmmc यंत्र रचना, उपयोग, फायदे, नुकसान

Buchholz relay in hindi | बुकोल्ज रिले रचना, कार्य सिद्धांत, उपयोग

Wind Energy and wind turbine In Hindi | पवन ऊर्जा पूरी जानकारी

Electroplating in hindi

तो दोस्तों आज हमने Law of illumination in Hindi इस आर्टिकल में इल्लुमिनेशन से जुड़े दो लॉ के बारेमे जाना।
अगर यह आर्टिकल या लेख आपको अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ facebook पर जरूर शेयर करना और इस लेख को पढ़कर आपको कैसा लगा वो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखना कुछ सुझाव हो  तो भी कमेंट में जरूर लिखना।
धन्यवाद।

Previous articleLightning arrester in hindi | लाइटनिंग अरेस्टर क्या होता है? प्रकार, कार्यसिद्धांत, उपयोग.
Next articleResistance welding in Hindi | प्रतिरोध वेल्डिंग स्पष्टीकरण, प्रकार,परिभाषा
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here