Illumination related important terms in hindi | इल्लुमिनेशन से जुडी महत्वपूर्ण बाते

0
439

आज इस आर्टिकल में हम illumination याने की रोशनी से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातें जैसे परिभाषा और कुछ formula याने सूत्र भी देखेंगे |

Light एक radiant energy याने ( दीप्तिमान ऊर्जा) का रूप है, और light याने रोशनी का मुख्य स्रोत sun याने सूरज है | वैसे देखा जाये तो बोहोत सारे incandescent के रूप है जो रोशनी का उत्सर्जन करता है |

Illumination related important terms in hindi | इल्लुमिनेशन से जुडी महत्वपूर्ण बाते
Illumination related important terms in Hindi

Table of Contents

Illumination related important terms in hindi ( इल्लुमिनेशन से जुडी महत्वपूर्ण बाते) :-

1) Light ( रोशनी ) :-

( रोशनी क्या है ?, What is light in hindi ?)

 यह ये परिभाषित करता है की जो गरम body से radiant energy निकलती है जिसे इंसानी आँखों से देखा जा सकता है उसे light कहा जाता है |

Light को ‘Q‘ से दर्शाया जाता है और Lumen-hours में में व्यक्त किया गया है | प्रकाश का वेग 3 ✕ 10⁸ m/s होता है | सूरज से निकली light को धरती तक आने के लिए सात मिनट का समय लगता है |

 2) Luminous Intensity ( लुमिनस इंटेंसिटी ) :-

( लुमिनस इंटेंसिटी  क्या है ?, What is Luminous Intensity in hindi )

यह ये परिभाषित करता है की surface के per unit area से कितना Luminous flux मिलता है |

Luminous Intensity को दर्शाने के लिए ‘E’ का इस्तेमाल किया जाता है | और रसी represent करने के लिए lumens per square meter या lux का इस्तेमाल किया जाता है |

 E = F / A = lumens / m² और lux 

Luminous intensity यह दर्शाती है की किसी दिशा में सोर्स पैर यूनिट सॉलिड एंगल से luminous फ्लोस निकल रही है | इसे दर्शाने के लिए I का इस्तेमाल किया जाता है और represent candela ( cd )  किया जाता है |

अगर         F = Luminous flux ……….lumens में
                ω = Solid sngle …………. steradian में
तब
                I = F / ω …………. lumen / steradian or candela 
 
यह भी पढ़े :- Circuit breaker क्या है ?

3) Luminous flux ( लुमिनस फ्लक्स ) :-

 ( लुमिनस फ्लक्स क्या है ?, What is luminous flux in hindi ?)

 यह ये दर्शाता है की किसी lumunous body से एक सेकंड में कुल मिलकर कितनी लाइट एनर्जी याने light waves निकलती है |

इसको दर्शाने के लिए F का इस्तेमाल किया जाता है और इसे Lumens में expressed किया जाता है |

4) Mean spherical candle power ( MSCP ) ( मीन स्फेरिकल कैंडल पॉवर ) :-

यह ये दर्शाता है की कैंडल पॉवर का मीन सभी दिशाओमे और सभी planes पर जाये जो की लाइट सोर्स से निकले |

5) Plane angle (समतल कोण) :-

यह वो कोण होता है जो एक पॉइंट पर सब्टेंडेड करता है और ये कोण दो सीधी लाइन की मदद से बंद किया जाता है |

इसे radians में दर्शाया जाता है |
Radians = Arc / Radius 

6) Lumen ( लुमेन ):- 

( लुमेन क्या है ?, What is lumen in hindi ?)
lumen का अर्थ ये हे की एक candle power source से एक यूनिट सॉलिड कोण पर luminous flux उत्सर्जित हो रही है |
इसका मतलब Lumens = Candle power ✖ solid angle 
                                    = C.P. ✖ ω
यह भी पढ़े :- Multimeter क्या है?

 7) Candle power ( कैंडल पॉवर ) :-

( कैंडल पॉवर क्या है ?, What is candle power in hindi ?)
 इसका मतलब ये हे की किसी सोर्स का किसी दिशा में लाइट को प्रसारित करने की क्षमता | यह से दर्शाता है की कितने लुमिनस एक सॉलिड एंगल पर और एक दिशा में किसी भी सोर्स से उत्सर्जित हो |
इसको C.P से दर्शाया जाता है |
इसका मतलब  C.P = lumens / ω

8) Illumination (इल्लुमिनेशन ) :-

( इल्लुमिनेशन क्या है ?, What is illumination in hindi ?)
यह ये दर्हता हे की किसी सरफेस पर यूनिट एरिया में कितना लुमिनस फ्लक्स प्राप्त होता है |
इसे E से दर्शाया जाता है और lumens per square meter और lux से represent करते है |
E = F / A  =  lumens / m ² और lux 

9) Lux or meter candle ( लक्स या मीटर कैंडल ) :-

( लक्स या मीटर कैंडल क्या है ?, What is lux or meter candle in hindi ?)

इसका मतलब ये है की per square meter के area में कितना luminous flux पड़ता है और जिस area में यह light गिरती है वह area लाइट के rays के perpendicular ( सीधा ) हो |

10) Mean horizontal candle power (MHCP ) ( मीन हॉरिजॉन्टल कैंडल पॉवर ) :-

Mean horizontal candle power इसका मतलब ये है की कैंडल पावर का average सभी दिशाओ में और horizontal plane सरफेस पर और इसमें एक ही सोर्स से निकले |

11) Mean spherical candle power ( MSCP ) ( मीन स्पेरिकल कैंडल पॉवर ) :-

 इसका ये मतलब है की कैंडल पॉवर का average वो भी सभी दिशा में और सभी सरफेस पर एक ही लाइट सोर्स से |

12) Mean Hemi-spherical candle power ( MHSCP ) ( मीन हेमि-स्पेरिकल कैंडल पॉवर ) :-

इसका मतलब ये हे की कैंडल पॉवर का सभी दिशा में average और वो hemisphere के अंदर हो, ये hemisphere या तो horizontal के ऊपर या फिर निचे हो |

13) Reduction factor ( रिडक्शन फैक्टर ) :-

रिडक्शन फैक्टर क्या है ?, What is reduction factor in hindi ?)
यह एक ratio है जो की Mean spherical candle power और इसके 11) Mean horizontal candle power के बिच में |
मतलब Reduction factor =  M.S.C.P. / M.H.C.P.

14) Lamp efficiency ( लैम्प एफिशिएंसी ) :-

( लैंप एफीशीएशी क्या है ?, What is lamp efficiency in hindi ?)

यह दर्शाता है की यह एक ratio है जो luminous flux और पॉवर इनपुट के बिच है |
इसे express करने के लिए lumens per watt का इस्तेमाल होता है |

15) Specific consumption ( स्पेसिफिक कोन्सपसन्स ) :-

(स्पेसिफिक कंसम्पशन क्या है ?, What is specific consuption in hindi )
यह एक ration है जो की पॉवर इनपुट और average कैंडल पॉवर के बिच में |
इसे दर्शाने के लिए watt per candela का इस्तेमाल किया जाता है |

16 ) Glare ( चमक ):-

( चमक क्या है ? What is glare in hindi ?)

इसे हम इस तरह से कह सकते है की यह नजर में आने वाले brightness जिसकी वजह से हमें साफ न दिखे और उसकी वजह से हमें annoyance याने चिढ हो और आँखों से देखने  लिए असुविधा हो |

17) Space to height ratio ( स्पेस टू हाइट रेश्यो ) :-

यह एक ratio है जो की सीधा अंतर lamp और mounting height of lamp बिच में होता है |
Space to height ratio = The horizontal distance between lamps/ mounting height of the lamp

18) Utilization factor ( यूटीलाइज़ेसन फैक्टर ) :-

( यूटिलायजेसन फैक्टर क्या है ?, What is Utilization factor in hindi ?)

किसी भी लाइट सोर्स से निकलने वाली पूरी लाइट कभी भी working surface याने जहा काम किया जाने वाला है वहा तक नहीं पहुँच पाती है | इसलिए utilization factor को हम इस तरह से समाज सकते है की यह एक ratio है जो की lumens जो वर्किंग प्लेन तक पहुंचे और लैंप से निकलने वाले कुल याने total lumes .

Utilization factor = Total lumens reaching the working plane/Total lumens given out by the lamp

Utilization factor की मात्रा निचे दिखाए गए मूल्य पर आधारित होती है |

  1. Light source की ऊंचाई
  2. Illuminated क्षेत्र
  3. Lihgting का प्रकार ( direct और indirect lightning )
  4. दीवारों का रंग और छत का रंग |

Direct lighting की Utilization factor की मात्रा 0.25 से 0.5 के बिच में होती है और Indirect lightning की Utilization factor की मात्रा 0.1 से 0.3 के बिच में होती है |

18) Maintenace factor ( मेंटेनेंस फैक्टर ) :-

( मैंटेनस फैक्टर क्या है ?, What is maintenance factor in hindi ?)

जब लैंप पर धूल, मिट्टी और धुआँ जम जाता है तो उसकी वजह से लैंप में से कम मात्रा में रोशनी निकलती है नए लैंप के मुकाबले | साथी साथ दीवारों का और छत का रंग फीका हो जाता  उसपर भी धूल मिट्टी लग जाती है उसकी वजह से दीवारे लाइट को अच्छे तरह से रिफ्लेक्ट नहीं कर पते है |

इसलिए maintenace factor को हम इस तरह दर्शा सकते है की यह एक ratio है जो की नार्मल स्थिति में कितना illumination होता है और जब सब साफ होता है तब कितना illumination होता है |

मतलब Maintenance factor = Illumination under normal condition / Illumination when every thing is clean

19) Depreciation factor ( डेप्रिसिएशन फैक्टर ) :-

( डिप्रिसिएशन फैक्टर क्या है ?, What is depreciation factor in hindi )

यह Maintenance factor से एकदम उलटा है | इसे हम इस तरह से दर्शा सकते है की ये एक ratio है जो की जब सब साफ होता है तब कितना illumination होता है और नार्मल स्थिति में कितना illumination होता है |

मतलब Depreciation factor = Illumination when every thing is clean / Illumination under normal condition

Depreciation factor की मात्रा 1 से ज्यादा होती है याने की 1.3 से 1.4 के बिच में |

20) Waste light factor ( वेस्ट लाइट फैक्टर ) :-

( वेस्ट लाइट फैक्टर क्या है ? What is waste light factor in hindi ?)

जब कुछ लैंप की मदद से illuminated किया जाता है तब कुछ overlapping और कुछ लाइट जिस हिस्से को illuminate करना है उसके बाहर जाती है तब वह पर कुछ लाइट waste बेकार हो जाती है |

जब भी किसी area को illuminate करने के लिए calculation किया जाता है उस वक्त जितना भी lumens की जरुरत होती है उस वैल्यू को अगर area rectangular याने आयताकार है तो 1.2 और अगर area अनियमित है तब 1.5 से multiply याने गुणा किया जाता है |

यह भी पढ़े :-Pmmc instrument in hindi 

21) Absorption factor ( अब्सॉर्प्शन फैक्टर ) :-

( अब्सॉर्प्शन फैक्टर क्या है ?, What is absorption factor in hindi )

कुछ जगह ऐसी होती है जहा पर लगातार धुआँ, लपटे होती है वहाँ पर लाइट की absorption होने की संभावना होती है |

इसलिए absorption factor को हम इस तरह दर्शाते है की यह ratio है absorption होने के बाद कितने lumens बचते है और कुल मिलकर कितने lumens एक लाइट सोर्स से निकलते है |

मतलब Absorption factor = Total lumen available after absorption / Total lumen emitted by source of light

इसकी मात्रा 1 से 0.5 के बिच में होती है |

22) Reflection factor ( रिफ्लेक्शन फैक्टर ) :-

( रिफ्लेक्शन फैक्टर क्या है ?, What is reflection factor in hindi )

जब लाइट का किरण किसी surface याने सतह पर टकराता है तब वो उस सतह से reflect याने की प्रतिबिंबित होता है और यह रिफ्लेक्शन एक कोण पर होता है ( angle of imcidence ) |

इसे हम इस तरह से दर्शा सकते है की यह एक ratio है जो की reflected light और incident light के बिच है |

मतलब Reflection factor = Reflected light / Incident light

इसकी मात्रा कभी भी 1 से कम ही होती है |

 23) Law of illumination ( लॉ ऑफ़ इल्लुमिनेशन ) :-

  1. Law of Inverse Squares ( लॉ ऑफ़ इनवर्स स्क्वायर )
  2. Lambert’s Cosine law ( लम्बरट्स कोसाइन लॉ )

Questions and answers related to illumination ( इल्लुमिनेशन से जुड़े प्रश्न उत्तर ):-

Q. Radiant efficiency of the luminous source depends on ( लुमिनस सोर्स की रेडिएंट एफिशिएंसी किसपर निर्भर होती है ?)

उत्तर:- Source के तापमान पर |

Q. What is the velocity of Lightwave ( प्रकाश तरंग का वेग क्या है ?)

उत्तर :- 3 ✕ 10¹⁰ cm/s

Q. Normally where is Carbon lamp used ( कार्बन लैंप का इस्तेमाल ज्यादा कहा पर किया जाता है ?

उत्तर:- सिनेमा प्रोजेक्टर में

Q. Candela is unit of ( कंडेला किसका यूनिट है ?)

उत्तर:- Luminous intensity

Q. The unit of Luminous flux is  ( लुमिनस फ्लक्स का यूनिट क्या है ?)

उत्तर:- Lumen

Q. Illumination level required for precision work ( सटीक कार्य के लिए कितने इल्लुमिनेसन की जरुरत होती है ?)

उत्तर:- 500 lm/m²

Q. What illumination unit? ( इल्लुमिनेसन का यूनिट क्या है ?)

उत्तर:- Lux

Q. Why glare is produced ( ग्लेयर क्यू उत्पन्न होता है ?)

उत्तर:- ज्यादा लुमिनस की वजह से

 यह भी पढ़े :-

 
Previous articleShaded pole motor in hindi | शेडेड पोल मोटर पूरी जानकरी
Next articleWhat is resistor in hindi | resistor क्या है? प्रकार, उपयोग, फायदे, नुकसान
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here