Pmmc instrument in hindi | Pmmc यंत्र रचना, उपयोग, फायदे, नुकसान

0
2623

Pmmc का फुल फॉर्म  Permenent Magnet Moving Coil है | बोहोत सारे यंत्रो इस्तेमाल किया जाता है ताकि इलेक्ट्रिकल parameter को नापा जा सके और उसका विश्लेसन किया जा सके ताकि मशीनअछि तरह से चलती रहे | pmmc भी एक ऐसा ही यंत्र है जिसका लोकप्रिय रूप से उपयोग किया जाता है |

Pmmc instrument in Hindi (Pmmc यंत्र क्या है ?):-

Permenent Magnet Moving Coil या फिर Pmmc को D,Arsonval या फिर Galvanometer भी कहा जाता है | इसका इस्तेमाल करके हम coil में से बहने वाले current को माप सकते है, uniform magnetic field में coil के angular झुकाव को पढ़कर |

Pmmc meter में coil को याने की conductor को दो स्थायी मैगनेट के बिच में रखा जाता है ताकि magnetic field उत्पन्न हो जाये | faradys law of electromagnetic induction के अनुसार अगर अगर हम करंट carring कंडक्टर को magnetic field में रखे तो उसपे बल का असर होता है इन force की दिशा Fleming left hand rule के अनुसार होती है |

निचे दिखाए चित्र में हम pmmc का चित्र देख सकते है |

pmmc in hindi image showing moving coil magnetic system, pointer, scale,controlling element, damping element
Pmmc instrument in hindi

इसका बल का फ़ोर्स conductor में से बहने वाले current के अनुपात में होगा | जब moving coil में का torque बैलेंस याने संतुलित हो जायेगा तब एंगुलर डिस्पेसमेंट को scale की मदद से मापा जायेगा |

Pmmc instrument का इस्तेमाल सिर्फ DC current को मापने के लिए किया जाता है | अगर हम AC current supply को मापने को कोशिश करे to उसमे ये होगा की उसमे positive और negative ऐसे दो आधे साइकिल होते है इसकी वजह से उनमे torque की दिशा भी बदलती रहेगी इसकी वजह से ac के लिए इसका इस्तेमाल नहीं कर सकते है |

यह भी पढ़े :- Synchronous generator क्या है ?

Pmmc instrument construction (Pmmc यंत्र की रचना ) :-

Pmmc यंत्र की बुनियादी व्यवस्था हम निचे दिखाए चित्र में देख सकते है | इसमे जो मुख्य पुर्जे होते है वो है moving coil magnetic system, pointer, scale याने सूचक, scale याने पट्टी साथी साथ controlling element और damping element होते है |

निचे दिखाए चित्र में हम pmmc का चित्र देख सकते है |

pmmc instrument in hindi
pmmc instrument in hindi

1) Moving coil (गतिमान कुंडली ):-

Moving coil enamelled और silkसे ढके हुए कॉपर की wire ते बोहोत सारे turns से बनी होती है | ये सब एक आयता आकार aluminium पर रखा जाता है | इस आयता आकार aluminium को एक जगह पर रखने के लिए और दोनों बाजु से सहारा देने के लिए jewellwed bearning से सहारा दिया जाता है |

ये सब permanent magnet के field में स्वतंत्र रूप से चलता रहता है | ज्यादा तर voltmeter के coil metal के ढांचे पर लपटे हुए होते है ताकि electromagnetic damping को उत्पन्न कर सके |और जो ammeter की coil होती है वो ज्यादा तर non-magnetic के ऊपर होती है |

यह भी पढ़े :- Thermocouple क्या है ?

2) Magnet system (चुंबक प्रणाली ) :-

पुराने वाले मैगनेट सिस्टम को अगर देखा जाये to उनमे आज इस्तेमाल होने वाले मैगनेट के मुकाबले लम्बे V आकार में permanentमैगनेट होते है और उनमे सॉफ्ट आयरन पोल के pieces होते है |

आगे जाकर alcomax और alnico जैसे सामग्री का विकास किया गया उसकी वजह से अब छोटे आकार के मैगनेट का इस्तेमाल करना संभव हो गया है | PMMC instrument में flux density 0.1 Wb/m² से 1 Wb/m² के बिच में होती है |

छोटे यंत्रो में छोटे coil का इस्तेमाल करना संभव है क्यू की उनमे turns भी कम होते है इसकी वजह से volume, आकार भी कम हो जाता है | इसमे जो angular span याने कोणीय विस्तार होता है वो लगभग 90° तक ही होता है | इस लिए इसके coil का movement सिमित हो जाता है |

3) Pointer and scale (सूचक और माप पट्टी ) :-

इसका pointer spindle की मदद से चलता है | और इसका वजन भी बोहोत कम होता है | इसमे बोहोत ही पतले ब्लेड का इस्तेमाल किया जाता है ताकि parallax error जो की scale पढ़ते समय उत्कोपन्न होते है उनको  कम करा जा सके | इन एरर को अगर और भी कम करना हो तो उसके लिए pointer की alignment सही से करनी पड़ेगी और साथी साथ जो प्रतिबिम्ब होगा उसे भी एडजस्ट करना होगा |

यह भी पढ़े :- LVDT क्या है ?

4) Controlling element (नियंत्रण तत्व) :-

इसमे controlling torque को प्रदान करने के लिए दो phosper bronze hair spring का एस्तेमाल किया जाता है |इन spring का इस्तेमाल करंट को coil से अन्दर या बाहर निकालने के लिए भी होता है |

5) Damping element (डंपिंग इलेमेंट) :-

Permenent magnet के magnetic field में aluminium former के के movement की वजह से damping torque उत्पन्न होता है |

Torque equation (टॉर्कः समीकरण ) :-

Moving coil instrument का deflecting torque हमें मिलता है —
                Td = NBldI
इसमे N = coil के घुमावों की संख्या
         B = air गैप की flux density ; wb / m²
           I= Moving coil में से जाने वाला current ; A
           l = Coil के verticle (सीधे )साइड की लम्बाई ; M
          d = Coil के horizontal (आड़ा ) साइड की लम्बाई ; M
अगर
           G = NBld याने की dispacement constant
          ∴ Td = GI
Spring की वजह से controling torque मिलता है –
          Tc = K ፀ     यहाँ पर K constant है
अंतिम स्थिर deflection के लिए –
             Tc = Td
      ∴  K ፀ = GI
          ∴  ፀ = ( G / K ) I     और  I = ( K /G ) ፀ
यहाँ पर K और B constant है,और जो deflection है वो प्रत्यक्ष रूप से से current जो की meter में से जा रहा है उसपर निर्भर है | इसके वजह से हमें रैखिक माप मिलता है |

Error in PMMC instrument (Pmmc उपकरण की त्रुटि ) :-

  1. तापमान के बदलाव से और ज्यादा समय इस्तेमाल करने की वजह से permanent magnet कमजोर हो जाते है |
  2. तापमान के बदलाव से और ज्यादा समय इस्तेमाल करने की वजह से spring भी कमजोर हो जाती है |
  3. Moving coil का resistance भी बदलता है अगर तापमान में फरक आ जाये |

Application of PMMC indtrument (Pmmc उपकरण के उपयोग) :-

  1. Ammeter
  2. voltmeter
  3. Galvanometer
  4. Ohm-meter

Advanatges of PMMC instrument (Pmmc उपकरण के फायदे या लाभ ) :-

  1. इसका scale एकसमान और सीधा होता है |
  2. इसमे बोहोत ही कम पॉवर की खपत होती है 25μ W से 200μ W.
  3. इसका torque ओव वजन का अनुपात ज्यादा है इसकी वजह से इसकी सतिकता ज्यादा है |
  4. एक ही यंत्र का इस्तेमाल बोहोत सारे current और voltage की श्रेणी को मापने के लिए हो सकता है |
  5.  (भटका हुआ) Stray magnetic field की वजह से बोहोत कम error उत्पन्न होते है |

Disadvantages of PMMC instrument (Pmmc उपकरण के नुकसान या त्रुटि ) :-

  1. यह सिर्फ DC को ही मापता है | इसका कारण तह है की ac में torque रिवर्स हो जाता है उसकी वजह से इसकी वजह से ac के लिए इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है |
  2. दुसरे moving iron उपकरणों की तुलना में इसका मूल्य ज्यादा है |

यह भी पढ़े:

 
 
 
 
 
 
Previous article5 Nikola tesla inventions that never build in hindi
Next articleErrors in measurement in Hindi | माप में होने वाली त्रुटियां
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here