Star delta starter in hindi | स्टार डेल्टा स्टार्टर क्या है पूरी जानकारी

0
1779

तो दोस्तों आज हम Star delta starter in hindi इस आर्टिकल में स्टार डेल्टा स्टार्टर क्या होता है, कैसे काम करता है,और star delta स्टार्टर कनेक्शन चित्र भी देखने वाले है | साथी साथ कार्य सिद्धांत, उसके लाभ और नुकसान और उसके उपयोग के बारेमे भी जानेंगे |

Induction motor को स्टार्ट करने के लिए बोहोत सारे स्टार्टर का इस्तेमाल किया जाता है| इनकी सूची को हम निचे देख सकते है| स्टार्टर कितने प्रकार के होते है ये  हमें पता लगेगा :-

1) Variable stator frequency starting, 2) Star delta starter, 3) Direct on line starter, 4) Autotransformer starting, 5) Voltage control starter Saturable/non-saturable reactor starter, 6), 7) Stator resistance starter, ये सब मोटर स्टार्ट करने के तरीके है, इनमे से हम Star delta starter में समझने वाले है |

Star delta starter in hindi (स्टार डेल्टा स्टार्टर क्या है ?):-

अगर मोटर को रेटेड वोल्टेज सप्लाई दिया जाये तो मोटर के स्टार्ट होते ही मोटर बोहोत ज्यादा स्टार्टिंग करंट को खींच लेगा | इसकी वजह से  I²R losses बोहोत बढ़ जायगे इसका परिणाम ये होगा की motor overheat हो जाएगी |

दूसरा कारन ये है की जब मोटर  करंट को खींच लेगी तो उसी समय वोल्टेज कम हो जायेगा | और उसकी वजह से स्टार्टिंग करंट बढ़ जायेगा और इसके कारन मोटर की वाइंडिंग का नुक़सान हो सकता है |

अगर ऊपर बताई गयी प्रोब्लेम्स से मोटर को बचाना है, तो हमें मोटर को स्टार्ट करने के लिए स्टार्टर की मदद लेनी पड़ेगी ताकि मोटर को क्षति पोहुंचाये बिना अच्छे से चालू कर सके |

छोटे induction motor को स्टार्ट करने के लिए Star delta starter का इस्तेमाल किया जाता  ज्यादा rating वाले मोटर को स्टार्ट  पहले starting current को कम करना जरुरी होता है |

Star delta connection in hindi (स्टार डेल्टा स्टार्टर का कनेक्शन ):-

मोटर के स्टेटर वाइंडिंग जब मोटर को स्टार्ट किया जाता है तब वह star configuration में जुडी होती है | इसकी वजह से हर एक winding में से जाने वाला करंट कम हो जाता है, यह voltage rated voltage के 1/√3  हो जाता है |

जब मोटर तेज हो जाती है, तब स्टेटर delta configuration में जुड़ जाती है, ताकि windings को rated voltage मिल सके | Star delta स्टार्टर कनेक्शन चित्र हम निचे देख सकते है |

Star delta starter connection in hindi
star delta स्टार्टर कनेक्शन चित्र

हमें पता है की torque square ऑफ़ stator voltage के proportinal होता है उसकी वजह से स्टार्टिंग टार्क कम हो जाता है इसीलिए जब star connection से delta connection में जाते है तो एक झटका लगता है |

material used in Star delta connection (स्टार डेल्टा कनेक्शन में इस्तेमाल होने वाली सामग्री):-

  1. Overload relay
  2. contactor
  3. NO push button
  4. NC push button
  5. Timer

Star delta starter working principle in hindi (स्टार डेल्टा स्टार्टर कार्य सिद्धांत) :-

1)Start mode (स्टार्ट मोड ) :-

start mode में 3 पोल ६ वे switch को स्टार्ट मोड पर रखा जाता है | इसकी वजह से स्टेटर वाइंडिंग की  R’ B’ और Y’ terminal एक साथ जुड़ जाती है, यह स्टार पॉइंट की तरह कार्य करता है |

star delta के start मोड़ का चित्र हम निचे देख  सकते है |
Star delta starter in hindi
Star delta starter in Hindi

सप्लाई को R Y और B टर्मिनल्स के मदद से मोटर के स्टेटर वाइंडिंग में दिया जाता है, इसका मतलब है की start mode में stator windings star में जुड़े होते है |

2) Run mode (रन मोड):-

रन मोड में 3 पोल 6 वे स्विच को Run position पर कर दिया जाता है | उसकी वजह से स्टेटर इंडिंग्स निचे दिखाई गयी  तरीके से जुड़ जाती है –

R⇒B’, Y⇒R’ और B⇒Y’

Star delta starter in hindi
Star delta starter in hindi

ऊपर दिखाई चित्र में हम देख सकते है की delta फॉर्म में windigs किस तरह जुडी होती है |

Star delta starter में timer की भूमिका:-

टाइमर का काम होता है की स्टार मोड से डेल्टा मोड में चेंज ओवर करना मतलब start mode से run mode में जाना। इसमें एक टाइम को सेट किया जाता है उस समय के स्टार में से डेल्टा में इंटरचेंज हो जाता है |

Advantages of star delta starter (स्टार डेल्टा स्टार्टर के फायदे ) :-

  1. यह स्टार्टर  बोहोत simple है और इसकी बनावट बोहोत आसान है |
  2. इसका कॉस्ट याने मूल्य भी कम है |
  3. इसका इस्तेमाल बोहोत  किया जाता है |
  4. इसमें स्टार्टिंग करंट बोहोत कम याने 2 से 3 गुना कम हो जाता है |
  5. उसको चलाना और देखभाल याने maintenace करना आसान है |

Disdvantages of star delta starter (स्टार डेल्टा स्टार्टर के नुकसान ) :-

  1. इसमें एक बड़ा उकसान नुकसान है की इसमें starting voltage 1/√3 हो जाता है मतलब सिर्फ 57.7%.
  2. इस स्टार्टर का इस्तेमाल उन induction motor में नहीं किया जा सकता है जो मोटर star connected हो |
  3. इसमें दो power cable का इस्तेमाल करना पड़ता है |
  4. DOL स्टार्टर के मुकाबले स्टार्टिंग टार्क कम होता है |
  5. पावर और कण्ट्रोल सर्किट DOL स्टार्टर के मुकाबले थोड़ा जटिल है |

Applications of star delta starter (स्टार डेल्टा स्टार्टर के उपयोग ):-

  1. जैसे हमने ऊपर देखा की जहा स्टार्टिंग टार्क कम लगता है उन्ही जगह पर इसका इस्तेमाल किया जाता है | 
 

Questions and answers related to the star-delta starter in Hindi (स्टार डेल्टा स्टार्टर के संबंधी प्रश्न 

Q. 3 फेज इंडक्शन मोटर में जब स्टार डेल्टा स्टार्टर का इस्तेमाल करते है वोल्टेज कितना कम हो जाता है ?
उत्तर :starting voltage 1/√3 हो जाता है|

Q. थ्री फेज इंडक्शन मोटर में  स्टार्टर का इस्तेमाल क्यू किया जाता है ?
उत्तर :- थ्री फेज इंडक्शन मोटर में  स्टार्टर का इस्तेमाल किया जाता है ताकि स्टार्टिंग करंट को कम किया जा सके |

Q. DOL स्टार्टर ऑफ़ स्टार डेल्टा स्टार्टर में क्या अंतर है ?
उत्तर:- DOL स्टार्टर में सप्लाई को सीधे मोटर में दिया जाता है ले किन स्टार डेल्टा स्टार्टर में मोटर को पहले स्टार में उसके बाद डेल्टा में जोड़ा जाता है |

 

यह भी पढ़े:

 
 
 
 
 
 
 

तो दोस्तों आज हमने Star delta starter in hindi आर्टिकल में स्टार डेल्टा स्टार्टर क्या है  कहा पर किया जाता है इसके बारेमे जाना |

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए धन्यवाद आशा है की आपको पोस्ट पसंद आयी होगी आपको कुछ नया सीखने को मिला होगा, अगर पोस्ट पसंद आया तो कमेंट करके जरूर बताना और कुछ सुझाव हो तो भी कमेंट बॉक्स जरूर लिखना

अगर आपको पोस्ट पसंद आया होगा अगर पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ facebook या whatsapp पर जरूर शेयर करे |

धन्यवाद ||

Previous articleDOL starter in hindi | डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर पूरी जानकारी
Next articleWheatstone bridge in hindi | व्हीटस्टोन सेतु संरचना, सिद्धांत, उपयोग
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here