DOL starter in hindi | डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर पूरी जानकारी

0
1284

DOL starter in Hindi इस आर्टिकल में हम आज डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर के बारेमे जानने वाले है | इसकी बनावट कैसी,circuit diagram कैसी है,कैसे काम करता है इन्ही सभी प्रश्नो का उत्तर हम  देखने वाले है |इसका इस्तेमाल छोटे water pump में Conveyor belts को स्टार्ट करने में Fans और blower में छोटे compressors में किया जाता है |

Induction motor को स्टार्ट करने के लिए बोहोत सारे स्टार्टर का इस्तेमाल किया जाता है| इनकी सूची को हम निचे देख सकते है 1) Stator resistnace starter, 2) Star delta starter, 3)Direct on line starter, 4)Autotransformer starting, 5)Saturable/ non saturable reactor starter, 6)Voltage control starter, 7)Variable stator frequency starting, ये सब मोटर स्टार्ट करने के तरीके है इनमे से हम DOL starter in hindi में समझने वाले है |

DOL starter in Hindi (डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर क्या है ?) :-

अगर हम rated stator voltage को मोटर में सप्लाई दे तो उसकी वजह से मोटर बोहोत ज्यादा करंट को खीचेगा | उसकी वजह से I²R losses बढ़ जायेंगे उसकी वजह से मोटर overheat हो जाएगी |

मोटर स्टार्टिंग में बोहोत ज्यादा करंट खिचेंगी उसी वक्त voltage बोहोत कम हो जाता है | अगर बोहोत ज्यादा starting current होगा तो windings को जला सकता है |

DOL starter का चित्र निचे दिखाया गया है, इसमें हर supply line में एक fuse को लगाया जाता है | साथी साथ हर लाइन पर thermal overload relay को भी लगाया जाता है |

DOL starter circuit diagram in hindi
fig.a  DOL starter in hindi

 

इसमें जिस तरह relay काम करता है उसी कार्य सिद्धांत पर contactor भी काम करता है | निचे दिखाए चित्र में हम सरल सीधा स्टार्ट और स्टॉप का लॉजिक यह फिर किस तरह काम करता है वो देख सकते है |

इसमें एक बात ध्यान देने वाली है की starting current को कम या फिर कण्ट्रोल कर सके ऐसा कुछ इंतजाम नहीं किया गया है, इसलिए DOL starter का इस्तेमाल सिर्फ छोटे induction motor में ही किया जाता है |

Need of starter for induction motor in hindi (इंडक्शन मोटर में स्टार्टर क्यू लगाया जाता है ?):-

अगर मोटर को रेटेड वोल्टेज सप्लाई दिया जाये तो मोटर के स्टार्ट होते ही मोटर बोहोत ज्यादा स्टार्टिंग करंट को खींच लेगा | इसकी वजह से  I²R losses बोहोत बढ़ जायगे इसका परिणाम ये होगा की motor overheat हो जाएगी |

दूसरा कारन ये है की जब मोटर  करंट को खींच लेगी तो उसी समय वोल्टेज कम हो जायेगा | और उसकी वजह से स्टार्टिंग करंट बढ़ जायेगा और इसके कारन मोटर की वाइंडिंग का नुक़सान हो सकता है |

अगर ऊपर बताई गयी प्रोब्लेम्स से मोटर को बचाना है, तो हमें मोटर को स्टार्ट करने के लिए स्टार्टर की मदद लेनी पड़ेगी ताकि मोटर को क्षति पोहुंचाये बिना अच्छे से चालू कर सके |

छोटे induction motor को स्टार्ट करने के लिए DOL starter का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन ज्यादा rating वाले मोटर को स्टार्ट  पहले starting current को कम करना जरुरी होता है |

Material used in DOL starter (डायरेक्ट ऑनलाइन स्टार्टर में इस्तेमाल होने वाली सामग्री ) :-

1) Relay
2) Thermal overload relay
3) Push start button
4) Push stop button
5) Release start button
6) Contactors
7) MCCB/MCB

DOL starter working principle in Hindi (डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर का कार्य सिद्धांत ):-

मोटर को सुरु करने के लिए हमें स्टार्ट वाले बटन को दबाना होगा | जैसे ही स्टार्ट बटन को दबादेंगे वैसे ही contactor coil Y और B लाइन के बिच में जुड़ जाएगी जैसे की हम निचे दिखाई गयी चित्र (fig. b ) में देख सकते है |

DOL starter in hindi
Fig.b DOL starter in hindi

Armature rod जो की dotted line से दर्शाया गया है जिसे हम (fig.a ) में देख सकते है, वो contactor coil की तरफ आ जाती है, और जो normally open contacts C1 C2 C3 और C4 clossed हो जाते है |

उसके बाद C1 C2 और C3 की मदद से AC supply induction motor के stator winding को मिल जाता है | जो अतिरिक्त C4  कांटेक्ट स्टार्ट स्विच के बिच में लगाया जाता है, और इसकी वजह से contactor coil energised रहती है अगर start switch को realse कर दे तो भी |

अगर हमें मोटर को बंद करना हो याने stop करना हो तो STOP के बटन को प्रेस करदेंगे | इसकी  वजह से contactor coil AC सप्लाई से dissconnect हो जाएगी सभी C1 से लेकर C4  सभी contacts ओपन हो जायेंगे | और स्टेटर सप्लाई से अलग हो जियेगा |

Advantages of DOL starter(डायरेक्ट ओन लाइन स्टार्टर के फायदे ):-

  1. बोहोत ही सस्ता कम लागत में बनने वाला स्टार्टर है |
  2.  starter से मोटर तक सिर्फ एक ही cable की जरुरत पड़ती है |
  3. इसका control circuit बोहोत आसान है |
  4. अगर कुछ दिक्कत आती है तो उसे समझना और उसका समाधान निकालना आसान है |
  5. मोटर के start होते समय यह 100% torque मोटर को देता है |

Disadvantages of DOL starter(डायरेक्ट ओन लाइन स्टार्टर के नुकसान):-

  1. बोहोत ज्यादा starting torque उत्पन्न करता है, जबकि इतने starting torque की आवश्यकता नहीं होती है |
  2. यह starter स्टार्टिंग करंट को कम नहीं करता है |
  3. Starting में voltage बोहोत कम हो जाता है |
  4. Starting current बोहोत ज्यादा होता है |
  5. Motor गरम  हो जाती है याने thermal stress बढ़ जाता है उसकी वजह से मोटर की लाइफ कम हो जाती है |

Application of  DOL starter (डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर के उपयोग ):-

  1. जिन मोटर की power rating कम होती है उन मोटर में इसका इस्तेमाल किया जाता है |
  2.  जहा पर starting current मोटर की वाइंडिंग को नुकसान नहीं कर पाती उस जगह इस्तेमाल किया जाता है |
  3. छोटे water pump में
  4. Conveyor belts को स्टार्ट करने में
  5. Fans और blower में
  6. छोटे compressors

Questions and Answers related to DOL starter (डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर से जुड़े प्रश्न उत्तर ):-

Q. Why DOL starter is used (डायरेक्ट ऑनलाइन स्टार्टर का इस्तेमाल किलिये किया जाता है ?)
उत्तर :- Protect against short circuit (शार्ट सर्किट से बचाव के लिए )
Q. This starter is used in 3 phase squirrel cage induction motor up to how much ratting (कितने HP तक के मोटर में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है ?)
उत्तर :- upto 5 HP (5  HP  मोटर में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है | )
Q.upto 5 HP (5  HP  मोटर में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है | )
 उत्तर:– water pump, छोटे compressors में, Fans और blower में, Conveyor belts में, low ratting motor में |

यह भी पढ़े:-

 

तो दोस्तों आज हमने DOL starter in hindi आर्टिकल में डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर के बारेमे जाना और साथी साथ उसका इस्तेमाल और किस तरह से काम करता है ये भी जाना |

इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए धन्यवाद आशा है की आपको पोस्ट पसंद आयी होगी आपको कुछ नया सीखने को मिला होगा, अगर पोस्ट पसंद आया तो कमेंट करके जरूर बताना और कुछ सुझाव हो तो भी कमेंट बॉक्स जरूर लिखना

अगर आपको पोस्ट पसंद आया होगा अगर पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ facebook या whatsapp पर जरूर शेयर करे |

धन्यवाद ||

 
Previous articleBuchholz relay in hindi | बुकोल्ज रिले रचना, कार्य सिद्धांत, उपयोग
Next articleStar delta starter in hindi | स्टार डेल्टा स्टार्टर क्या है पूरी जानकारी
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here