Buchholz relay in hindi | बुकोल्ज रिले रचना, कार्य सिद्धांत, उपयोग

0
1916

 Buchholz relay in Hindi इस आर्टिकल हम जानने वाले है की इस रिले की रचना कैसी है, इसका कार्यसिद्धांत (Buchholz relay working in hindi) क्या है, इसका इस्तेमाल किस तरह से किया जाता है| 

Table of Contents

Buchholz relay in hindi (बुकोल्ज रिले क्या है ?):-

जैसे की हमें नाम से ही पता चल रहा है की यह एक प्रकार का relay है, मतलब की एक protecting device है| इसकी खोज Max buchholz (1875-1956) ने 1921 में की थी इसलिए इसका नाम buchholz relay है |

जिस तहर oil circuit brekarvacuum circuit breaker,air circuit breaker का इस्इतेमाल circuit को या किसी उपकरण को प्सरोटेक्काशन देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है उसी तरह  transformer के बचाव के लिए  किया जाता है | 

यह relay gas actuated की गैस सक्रीय रिले है | इसका इस्तेमाल उन्ही ट्रांसफार्मर में किया जाता है जिन ट्रांसफार्मर में तेल का इस्तेमाल किया जाता है | 

यह रिले ट्रांसफार्मर को सभी तरह की faults बचाता है | जब transformer में बोहोत धीरे-धीरे से fault उत्पन्न हो रहा होता है तब buchholz relay alarm generate करता है | और साथी साथ ट्रांसफार्मर की सप्लाई को बंद कर देता है जब कोई अंतर्गत fault उत्पन्न होता है | 

Buchholz relay को conservator tank और मुख्य टैंक के बिच में लगाया जाता है, यह रिले किस तरह लगाया जाता है यह हम निचे दिखाए चित्र में अच्छे देख सकते है | 

Buchholz relay in hindi diagram
Buchholz relay in hindi

अगर ट्रांसफार्मर की रेटिंग 500 kVA के ऊपर हो तो इस रिले का इस्तेमाल जिया जाता है | 

Buchholz relay construction in hindi (बुकोल्ज रिले की रचना ?):-

निचे दिखाई चित्र में हम Buchholz relay की रचना किस तरह की वो बोहोत अछि तरह से देख सकते है | इसमें main tank और conservator टैंक के बिच में एक पाइप जुड़ा होता है, पाइप के बिच में रिले को जोड़ा जाता है | 
Buchholz relay in hindi diagram
Buchholz relay in hindi

इसमें दो भाग होते है, ऊपर वाले भाग में mercury type switch float से जुड़ा होता है | निचे वाले हिस्से में murcury switch एक flap पर होता है, यह फ्लोट ट्रांसफार्मर टैंक और conservator टैंक के बहाव के बिच में होता है | 

ऊपर वाले हिस्से का काम होता है की जब कभी fault उत्पन्न होता है तो ऊपरी हिस्सा alarm generate करता है | और निचे वाला हिस्सा जब internal fault होता है तब circuit breaker को trip कर देता है |

Mounting of relay (रिले किस तरह लगा होता है ):-

यह relay एक पाइप पर बिठाया जाता है यह पाइप main टैंक और conservator टैंक के बिच में होता है | यह पाइप जमिन जे और transformer के 5° के कोण पर होता है ताकि oil बोहोत ही आसानी से टैंक में जा सके |

Buchholz relay operation in hindi (बुकोल्ज रिले की कार्य सिद्धांत?):-

ऊपरी हिस्सा :-

जब ट्रांसफार्मर में किसी तरह का fault उत्पन्न होता है तब उस fault की वजह से गर्मी निर्माण होती है, और उस गर्मी की वजह से main transformer टैंक में का आयल ख़राब होने लगता है | इस लिए transformer oil testing की जाती है |  

ख़राब होने वाले तेल में लगभग 70 % hydrogen gas होती है | यह गैस main tank से conservator tank में जाने लगाती है | लेकिन बिच में रिले होने के कारण वह गैस buchholz relay के ऊपरी भाग में जमा होने लगाती है | 

जब एक तय मात्रा पर गैस जमा हो  जाती है तब गैस pressure की वजह से float थोड़ा झुक जाता है और उसकी वजह से mercury switch में contacts हो जाता है, और उसकी वजह से alarm generate हो जाता है | 

निचे वाला हिस्सा :-

जब बोहोत ज्यादा बड़ा fault उत्पन्न होता है तो तो उसकी वजह से बोहोत ज्यादा तैमाने पर gas main tank में  उत्पन्न हो जाती है | तब main tank में से आयल conservator tank में जाने लगता है, इस बहाव के बिच में Buchholz relay लगा होता है | 

जब यह oil तेजी से ऊपर जाता है तो उसकी वजह से बहाव के बिच में जो पट्टी लगी होती है उस पट्टी पर दबाव पड़ता है, उसके कारण पट्टी एक तरफ झुक जाती है | उस झुकाव की वजह से murcury switch में contact हो जाता है | 

जब murcury switch में contacts हो जाता है एक trip circuit सक्रीय हो जाता है और उसकी  वजह से circuit breaker open हो जाता है| इसकी  वजह से transformer को सप्लाई मिलना बंद हो जाता है | 

Why Buchholz relay used in transformer (ट्रांसफार्मर में बुकोल्ज रिले का इस्तेमाल क्यू किया जाता है? ):-

बुकोल्ज रिले ट्रांसफार्मर के मुख्य टैंक में होने वाले fault को याने short circuit fault, inter-turn fault, earth fault, overheating of core और oil leackage in सब fault के बारेमे पता लगाता है और अगर कोई fault हे तो ट्रांसफार्मर की supply को बंद कर देता है |

यह रिले oil के कम ज्यादा होने पर या फिर उसका बहाव कम ज्यादा होने पर अलार्म देता है इसलिए अगर अचानक असामान्य तेल प्रवाह हो रहा है तो रिले transformer की supply को बंद कर देता है |

इसका इस्तेमाल oil imersed chock में भी किया जाता है ताकि उसका बचाव और निगरानी हो सके |

Diagnosis of fault (फॉल्ट का पता कैसे लगाये ) :-

जब relay में किसी प्रकार का फॉल्ट उत्पन्न होता है तो उसकी वजह से गैस उत्पन्न हो जाती है इस गैस की निरिक्षण करके fault किसकी वजह से हुआ है ये पता कर सकते है |

  1. Yellowish gas :- अगर पीली गैस है इसका मतलब वुड और कार्डबोर्ड की वजह से 
  2. Whitish gas :- सफ़ेद गैस का मतलब paper, cotton या फिर silk से साथ electric arching 
  3. Greyish gas :- इसका मतलब की magnetic circuit में breakdown
  4. Black gas :- इसका मतलब oil में free aching fault हुआ है |

Buchholz relay operation precautions (बुकोल्ज रिले इस्तेमाल के समय सावधानिया ):-

कभी कभी अगर fault उत्पन्न नहीं हुआ है फिर भी buchholz relay अलार्म देने लगता है | यह इसलिए होता है की जब transformer मी oil डाला जाता है तब oil में air घुल जाती है और धीरे धीरे relay के ऊपर जमा होने लागती है, इसकी वजह से relay से अलार्म generate होता है |

इस समस्या को तलने के लिए relay में एक लॉक लगाया जाता है, जब transformer में oil डाला जाता है तब यह लॉक mercury switch को एक जगह बनाये रखता है उसकी वजह से अलार्म generate nahi होता है |

Relay के निचे वाले switch की वजह से भी false alarm generate होता है यह इस लिए होता है की oil की गति की वजह से ना की किसी fault की वजह से generate होता है |

Advantages of Buchholz relay in hindi (बुकोल्ज रिले के फायदे ):-

  1. Transformer की सुरक्षा के लिए ये सबसे आसान तरीका है | 
  2. Fault अगर सुरुवात ही हो रही है, मतलब छोटे या बड़े fault को सुरुवात में ही भाप लेता है और ट्रांसफार्मर की सुरक्षा करता है | 
  3. जब कोई बड़ा fault उत्पन्न होता है तो रिले बोहोत आसानी से ट्रांसफार्मर की सप्लाई को बंद कर देता है |

Disadvantages of Buchholz relay in Hindi (बुकोल्ज रिले के नुकसान) :-

  1. इनका इस्तेमाल सिर्फ उन्ही ट्रांसफार्मर में किया जाता है जिनमे oil का इस्तेमाल किया जाता है |
  2. यह रिले उन्ही faults का पता लगाता है ट्रांसफार्मर के आयल लेवल पर निर्भर होते है |
  3. केबल प्रोटेक्शन में इस रिले का उपयोग नहीं जिया जा सकता है इसलिए केबल कनेक्शंस के लिए दूसरे protection system की जरुरत पड़ती है |
  4. इस रिले के प्रतिकिया करने का समय थोड़ा ज्यादा है |
  5. इसका प्रतिक्रिया करने का कम से कम समय होता है 1 second.

Application of Buchholz relay in Hindi (बुकोल्ज रिले के उपयोग):-

  1. अगर तेल में बुलबुला आते है तो उनका पता लगाता है |
  2. ट्रांसफार्मर वाइंडिंग के short circuit होने का पता लगाता है |
  3. ख़राब और ढीले इलेक्ट्रिकल कॉन्टेक्ट्स का पता लगाता है |
  4. Core bolt के insulation ख़राब होने का पता लगाता है |

Question and answer related to Buchholz relay (बुकोल्ज रिले से निगडित प्रश्न उत्तर) :-

Q. Why murcury tube is used in transformer Buchholz relay Hindi (बुकोल्ज रिले में मर्क्युरी टुब  इस्तेमाल क्यू किया जाता है ?)

उत्तर:- मर्क्युरी गति के प्रति बोहोत सवेदनशील होती है साथी साथ हव इलेक्ट्रिसिटी को अच्छे से transfer कर सकती है | 
 

Q. Buchholz relay used on ?(बुकोल्ज रिले का इस्तेमाल कहा किया जाता है ?)

उत्तर :- इनका इस्तेमाल जिन ट्रांसफार्मर में oil होता है उनमे और जिनकी रेटिंग 500 kVA के ऊपर होती है उनमे किया जाता है | 
 
 

यह भी पढ़े:

 
 
 
 
 
 
 

तो दोस्तों आज हमने Buchholz relay in hindi आर्टिकल में बुकोल्ज रिले रचना, कार्य सिद्धांत, उपयोग  कहा पर किया जाता है इसके बारेमे जाना |

 इस आर्टिकल को पढ़ने के लिए धन्यवाद आशा है की आपको पोस्ट पसंद आयी होगी आपको कुछ नया सीखने को मिला होगा, अगर पोस्ट पसंद आया तो कमेंट करके जरूर बताना और कुछ सुझाव हो तो भी कमेंट बॉक्स जरूर लिखना

अगर आपको पोस्ट पसंद आया होगा अगर पसंद आया है तो अपने दोस्तों के साथ facebook या whatsapp पर जरूर शेयर करे |

धन्यवाद ||

Previous articleAir circuit breaker in Hindi | ACB रचना, कार्य सिद्धांत और उपयोग
Next articleDOL starter in hindi | डायरेक्ट ऑन लाइन स्टार्टर पूरी जानकारी
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here