Synchronous generator in hindi | अल्टरनेटर क्या है और उसका काम क्या है?

0
379

Table of Contents


Synchronous generator क्या है ? What is an alternator?

क्या आपको पता है सिंक्रोनस जनरेटर क्या है ?(what is Synchronous generato?) अल्टर नेटर का काम करने का तरीका क्या है याने की working principle of alternator ? alternator का कहा पे इस्तेमाल किया जाता है | उसके कोनसे पार्टस होते है (parts of alternator) इसके बारे में संपूर्ण जानकारी लेते है|
Synchronous generator in hindi | अल्टरनेटर क्या है और  उसका काम क्या है?
Basic diagram of alternator

अल्टरनेटर क्या है? (what is Alternator in Hindi?):-

Alternator एक electrical machine है alternator या generator का कम ये है की mechanical energy को electrical energy में रूपांतर करता है | मतलब इनपुट में  mechanical source दिया जाता है ये source कपलिंग किमदत से सिंक्रोनस जनरेटर को दिया जाता है और जनरेटर से हमें electrical आउटपुट मिलता है | alternator का इस्तेमाल बिजली बनानेमे किया जाता है याने की hydroelectric power plant. अतिदुर्गम इलाके में बिजली उत्पन करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है साथी साथ emergency में भी बोहोत ज्यादा कम में आता है जैसे की हॉस्पिटल में

alternator को mechanical energy कई जगहोसे मिलती है जैसे की

1)Oil engibe (आयल इंजन)
2)I.C engine(अन्त:दहन इंजन)
3)Water turbine (जल चक्र)
4)Wind power(हवा की ताकत )
5)Steam turbine (भाप चक्र)

अल्टरनेटर के कम करने का तरीका (working principle of synchronous generator or alternator?)

अल्टरनेटर “electro-magnetic induction” के सिधांत पर कम करता है | जब magnetic flux conductor को कट करता है तब conductor में E.M.F याने की electromotive force induced होता है | जो e.m.f  की दिशा होती है वोह fleming left hand rule के हिसब से होती है |
alternator के कम करने का तरीका D.C generator जैसा ही होता है |जिस तरह से  D.C generator poles की मदत से magnetic field तैयार होती है यहाँ  पे field stationary और armature conductor mechanicaly घूमते है|armature conductor में जो E.M.F उत्पन्न होता है वोह commutator और brushes से एकठा किया जाता है |

commutator  AC को DC में रूपांतरित करता है अगर commutator को slip-rings से replace किया जाये तब e.m.f slip ring से brushes में एकाठा किया जाता है|

Synchronous generator in hindi | अल्टरनेटर क्या है और  उसका काम क्या है? Rotating field tpe armature

construction of synchronous generator (सिंक्रोनस जनरेटर का निर्माण)

Stator (स्टेटर):-

स्टेटर जनरेटर का स्टेशनरी पार्ट होता है और ये रोटर के सरोऊंडिंग में बना होता है | स्टेटर में armature या फिर स्टेटर वाइंडिंग होती है इसको सप्लाई में सिंगल फेस या फिर थ्री फेस सप्लाई दिया जाता है | आयरन हाउसिंग के चारो तरफ coil लपेट ने से बनती है | स्टेटर की अन्दर वाली साइड में स्लॉट्स बनाये जाते है और उसमे ही कॉपर से बनायीं हुई वाइंडिंग को डाला जाता है |

Rotor (रोटर) :-

रोटर जनरेटर का rotating पार्ट है मतलब की घुमाता है रोटर स्टेटर के बिच में रहता है |स्टेटर और रोटर मे किसी भी  प्रकार का electrical connection नहीं रहता है | रोटर में filed वाइंडिंग राखी जाती है रोरोर को बनाने के लिए सिलिकॉन steel की स्टम्पिंग का इस्तेमाल किया जाता है | सिंक्रोनस जनरेटर में दो प्रकार के रोटर होते है एक सलिएंत पोल (salient pole)और दूसरा नॉन सलिएंत( non-salient pole)पोल
Synchronous generator in hindi | अल्टरनेटर क्या है और  उसका काम क्या है?
 
E.M.F equation:-
 
    4.44 Φ . f. T volts
 
 Φ=flux per pole in weber
  f= frequency of induced e.m.f in cycle/ sec
 T=no. of turns per phase 
 

synchronous speed का फार्मूला

Ns=(120F)/P r.p.m
Ns=सिंक्रोनस स्पीड (r.p.m)
F=फ्रीक्वेंसी (Hz)
P= पोल्स
r.p.m= रेवोलुशन पर मिनट

What are the types of the alternator (अल्टरनेटर के प्रकार )

1) Automotive type alternator:- यह मॉडर्न automobile में इस्तेमाल किया जाता है 

2) Marine type alternator:- इसे मरीन में इस्तेमाल किया जाता है 

3)Radio type alternator:- इसे low ब्रांड फ्रीक्वेंसी ट्रांसमिशन में इस्तेमाल किया जाता है 

4)Brushless type alternator:-यह electrical power जनरेशन plant में इस्तेमाल किया जता है 

classification of the alternator:-

A) Based of output power (आउटपुट पावर के आधार पर)

1) Single-phase
2) Three-phase

B) Based on working principle (वर्किंग प्रिन्सिपल के आधार पर)

1)Revolving armature type
2)Revolving field type
 

C) Based on cooling (कुलिंग के आधार पर )

1)Air cooling
2)Hydrogen cooling
 

यह भी पढ़े

 
 
3)what is the electrical tariff in Hindi?
 
4) lighting kya hai?
 
 
धन्यवाद दोस्तों अगर आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा तो कमेंट में जरुर बताना 
और अगर कोई सुज्हाव है तो भी कमेंट में जरुर बताना 
 अगर पेज अच्छा लगे तो पेज को subscribe करना ना भूले|
Previous articleElectrical measuring instuments in hindi | विदुत मापी यंत्र प्रकार कोंनसे है ?
Next articleयूनिवर्सल मोटर क्या है ?| what is universal motor in hindi ?
नमस्ते दोस्तों Electrical dose इस ब्लॉग्गिंग वेबसाइट में आपका स्वागत है | इस वेबसाइट में हम आपको इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स के बारेमे बोहोत सारी अछि महत्वपूर्ण,और उपयोगी जानकारी जानकारी देते है. मैंने इलेक्ट्रिकल अभियांत्रिकी याने electrical engineering में diploma और Bachelor of engineering की है मुझे इलेक्ट्रिकल के बारेमे थोड़ी बोहोत जानकारी है, इसी लिए मैंने यह तय कर लिया की इस क्षेत्र में ब्लॉग बनाऊ और थोड़ी बोहोत जानकारी आपतक पहुचाऊ |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here